बुधवार, 24 फ़रवरी 2016

प्रधानमंत्री के नाम पत्र

मेरे पत्रकार मित्र प्रमोद रंजन जी का यह मेल मैं यहाँ यथावत लगा रहा हूँ जिसमें प्रेमकुमार मणि जी का पत्र "प्रधानमंत्री के नाम" से संलग्न है ! यह पत्र संभव है मार्च २०१६ के फारवर्ड प्रेस के अंक में आये ? 
प्रिय मित्र, 
पिछले कुछ समय से चल रही जेएनयू की घटनाएं जटिल होती जा रही हैं। ​कल  केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्‍मृति इरानी ने संसद में जो भाषण दिया, उसमें महिषासुर दिवस का भी जिक्र किया। इस संदर्भ में हम फारवर्ड प्रेस के आगमी अंक में कई सामग्री प्रकाशित कर रहे हैं। लेकिन मासिक पत्रिका होने की दिक्‍कत यह है कि जब तक वह अंक आपके हाथों में आएगा, तब तक कई बातें शायद पुरानी लगने लगें। इसलिए, अगले अंक में प्रकाि‍शित हो रहे प्रधानमंत्री के नाम हिंदी लेखक प्रेमकुमार मणि का पत्र आप लोगों को इस मेल के साथ भेज रहा हूं। कुछ और सामग्री कल भेजूंगा। इनसे आपको संदर्भ को समझने में सुविधा होगी। 
कायदे से होना तो यह चाहिए था कि इन तथ्‍यों को जनतांत्रिक व समाजवादी, साम्‍यवादी मुल्‍यों के पक्षधर सांसद सदन में रखते, जिससे यह बात दूर तक पहुंचती। कल राज्‍य सभा में इसी विष्‍य पर चर्चा है, देखना यह है कि कल सत्‍ताधारी पक्ष क्‍या कहता है और विपक्ष में बैठे सांसद उसका कितना विरोध कर पाते हैं। 
-प्रमोद रंजन 
भारत को समझो मोदी जी!
मान्यवर मोदी जी,
मैं समझता हूं हर नागरिका को अपने प्रधानमंत्री से सीधा संवाद करने का अधिकार है और यह पत्र के द्वारा होतब दुर्लभ एप्वाइंटमेंट का झंझट भी नहीं आता। इसलिए मैंने यही माध्यम चुना है।
देश में पिछले दिनों कई तरह की वारदातें हुईं। मैं नहीं समझता इसे आपको बताने की जरूरत है। यह सही है इतने बड़े देश में अनेक तरह की घटनाएं घटती रहेंगी और छोटी-छोटी घटनाओं की नोटिस  लेने के लिए आपका कीमती वक्त बर्बाद भी करना नहीं चाहूंगा। लेकिन कुछ घटनाएं ऐसी होती हैं कि लगता है हमारा वजूद हिल जाएगा। आज कुछ हद तक हम इसी स्थिति में आ चुके हैं। पिछले दिनों जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में जो हुआ और उसके बाद पहले दिल्ली और फिर देश के अन्य हिस्सों में जो हो रहा हैवह सब बेहद गंभीर है और मैं चाहूंगा कि पूरे मुद्दे पर पहले आप स्वयं गंभीरता से चिंतन करें। मैं आपको व्यक्तिगत स्तर पर सोचने की बात इसलिए कह रहा हूं कि मुझे प्रतीत होता है आप स्वयं इस विषय पर गडमड हैं। यह आपके क्रियाकलापों से प्रकट होता है। संसद के प्रवेश द्वार पर माथा टेकने से लेकर सभा-सम्मेलनों में दोनों हाथ उठा-उठाकर भारत माता की जय के उद्घोष जैसे क्रियाकलापों से आपके अंतरभाव प्रकट होते हैं। क्या कभी आपने अपना मनोविश्लेषण किया हैमेरा आग्रह होगासमय निकालकर यह जरूर कीजिए। क्योंकि इससे पूरे देश का भवितव्य जुड़ा है। रूसी लेखक चेखव ने कहा है मनुष्य को केवल यह दिखला दो कि वास्तविक रूप में वह क्या हैवह सुधर जाएगा। इसी भरोसे मैं आप में सुधार की एक संभावना देख रहा हूं। प्रधानमंत्री जीसबसे पहले तो आप अपनी स्थिति समझिये। आप कोई सवा सौ करोड़ लोगों के चुने हुए भाग्य विधाता हो। एक महान राष्ट्र के प्रधानमंत्रीवास्तविक शासक। कभी चंद्रगुप्तअशोकअकबर जैसे लोग जिस स्थिति में थेवैसे। उन लोगों के समय में भी भारत इतना बड़ा कभी नहीं रहा। चंद्रगुप्त और अशोक के समय हमारी सीमाएं पश्चिम में तो बढ़ी हुई थीलेकिन दक्षिण मौर्यों के हाथ नहीं था। अकबर के समय भी इतना बड़ा भारत नहीं था।
लेकिन भारत केवल भौगोलिक भारत ही नहीं रहा है। एक सांस्कृतिक भारत भी है हमारे पास। जैसा की रवींद्रनाथ टैगोर ने कहा है कि 'भारत एक विचार है न कि एक भौगोलिक तथ्य।इस भारत की रचना शासकों ने नहीं कवियोंमनीषीयोंदार्शनिकोंसंतों और सच पूछें तो प्रकृति ने स्वयं की है। यह भारत हजारों साल में बना है। इसकी रचना प्रक्रिया सहज भी है और जटिल भी। जाने कितने आख्यानकितनी पौराणिकताकितने काव्यकितने गीतकितना भूतकितना भविष्य मिला है इसमें और यह भारत आज सवा सौ करोड़ लोगों की धड़कन बन गया है।
आप जरा अतीत में जाइए अपने सांस्कृतिक आख्यानों और पौराणिकता में। इतना तो जानते हीं होंगे कि यह जो भारत शब्द है भरत से बना हैदुष्यंत और शकुंतला के प्यार-परिणय से उद्भूत भरतजिनका जन्म और पालन किसी राजमहल में नहीं ंएक ऋषि के आश्रम में हुआ। ये आश्रम वनांचलों में होते थेजहां आज आपकी सरकार ग्रीनहंट कर रही हैक्योंकि आपकी नजर में वहां देशद्रोही पल-बढ़ रहे हैं। अत्यंत मनोरम और मर्मस्पर्शी कथा है भरत और उनकी मां शकुंतला की। और फिर हमारे महान ऋषि द्वैपायन कृष्णजिन्हें वेद व्यास भी कहा जाता हैने एक खूबसूरत महाकाव्य लिखा महाभारत- जो आरंभ में ‘जय’ और ‘भारत’   था। महाभारत हमारी सबसे बड़ी सांस्कृतिक धरोहर है। अब इस भारत-महाभारत को बस सौ साल पहले कुछ लोगों ने भारत माता बना दिया। आपने कभी सोचा कि भारतवर्ष भारत माता कैसे बन गयादरअसल इंग्लैंड के लोग अपने देश को मदरलैंड कहते हैं। भारत में जन्मभूमि को पितृभूमि कहने का प्रचलन था। आप तो संघ के प्रचाारक रहे हो। इस तथ्य को ज्यादा समझते होंगे। अंगे्रजी संस्कृति के प्रभाव में कुछ लोगों ने इसमें मातृत्व जोड़ा और भारत,  भारतमाता में परिवर्तित हो गया। चूंकि यह कारीगरी करने वाले बड़े लोग थेसामंत जमींदार थे-जिनके बैठकखानों में बाघशेर के खाल लटके होते थेने इस भारत माता को बाघशेर पर बैठा दिया। इन बड़े लोंगंो की माता गायभैंस पर कैसे बैठतीं। सोचा है कभी आपने कि सामान्य जन ने भारत माता की निर्मिति की होती तो कैसी होंतीं भारतमाताशायद वह कवि निराला की एक कविता पंक्ति की तरह 'वह तोड़ती पत्थरहोती। हिंदी के प्रख्यात कवि पंत ने भी एक भारत माता की मूर्ति गढ़ी-
भारत माता ग्रामवासिनी
तरुतल निवासिनी।
पंत की भारत माता पेड़ तले रहती हैंनिराला की पत्थर तोड़ती हैं। यदि किसी ग्रामीण सर्वहारा ने मूर्ति गढ़ी होती तो चरखा चलाती या बकरी चराती भारत माता होतीं। 
लेकिन आप इस भारत माता के प्रधाानमंत्री नहीं हो। आप उस भारतवर्ष और अब केवल उस भारत-जिसे संविधान में दैट इज इंडिया कहा गया है के प्रधानमंत्री हो। इस भारत की रचना हमारे महान स्वतंत्रता आंदोलन के बीच से हुई। जिसे पूर्णता हमारी संविधान सभा ने दिया। हमने 26 जनवरी 1950 को इसे अंगीकार किया। 'हम भारत के लोग इसे आत्मसात और अंगीकार करते हैं। हमने एक महान सांस्कृतिक पीठिका पर विकसित राजनीतिक भारत को आत्मसात किया। संविधान हमारी आत्मा बन गईजैसा कि आप भी कहते हो हमारा धर्मग्रंथ बन गया।
लेकिन कुछ लोगों ने इसे आत्मसात नहीं किया। हमारा संविधान समानताभाईचारा और स्वतंत्रता के उन नारों को आत्मसात करता है जिसे कभी फ्रांसीसी क्रांति ने तय किया था। यह हर तरह के विभेद को नकारता है और सबको अवसर की समानता दिलाने का भरोसा देता है। इसमें अपने को लगातार विकसित करनेसुधारने और समय से जोडऩे की ताकत है और समय-समय पर हमने यह किया भी है। सब मिलाकर यह एक ऐसा आदर्श संविधान है जिसपर पूरे देश ने अपनी सहमति जतायी है। कुछ लोगों ने इससे खिलवाड़ करने की भी कोशिश कीजैसे 1975 में इमरजेंसीलेकिन उन्हें भी आखिर झुकना पड़ा।
और आज जो भारत है वह इस संविधान की पीठ पर हैकिसी बाघशेर की पीठ पर नहीं। वह भारत माता नहीं हैसबकी सहमति से निर्मित भारत है जो हमारे बल पर है और उसके बल पर हम हैं। कुछ-कुछ बूंद ओैर समुद्रवाला रिश्ता है हमारा। बूंद जैसे ही समुद्र से बाहर होता है मिट जाता है। हम भारत से अलग होंगे मिट जाएंगे।
प्रधानमंत्री जीलेकिन इस भारत भक्ति को कुछ लोंगो ने खिलवाड़ बना दिया है। न वह संस्कृति को समझते हें न राजनीति को। कुल मिलाकर उनकी दिलचस्पी एक फरेब विकसित करने में होती है जिसके बूते वे अपना वर्चस्व बनाये रखें। पुराने जमाने में कई तरह के सामाजिक-सांस्कृतिक फरेब विकसित कर इन लोगों ने अपना वर्चस्व बनाए रखावर्तमान संविधान ने इनके हाथ बांध दिये तब ये नये तरीके ढूंढ रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कभी अपने बैठकखानों में शेर की खाल लटकाने वाले इन महाप्रभुओं ने आज अपने ड्राइंग रूम में भारत माता की खाल लटका ली है और राष्ट्र के स्वयंभू पुरोहित बन देशभक्ति का प्रमाण पत्र बांट रहे हैं। ये लोग संविधान की जगह मनुस्मृति और शरीयत संहिताओं पर यकीन करते हैं। इनका भारत साधुओंफकीरों और पाखंडियों का लिजलिजा भारत है जिसमें इनके मनुवाद पर कोई आंच नहीं आती। यही इनका देश हैयही इनका राष्ट्र है।
जवाहरलाल नेहरू वि.वि. की एक घटना पूरे देश की ऐसी घटना बन गई है जिसपर हर जगह चर्चा हो रही है। मैं तो उन लोगों में हूं जो इसे सकारात्मक रूप से ही देखते हैं और समझता हूं इस बहस से हमारा मुल्क और मजबूत बनेगा। लेकिन आप से अनुरोध है कि पूरे मामले पर नजर रखें ओैर उन ताकतों को हतोत्साहित करें जो समाजिक प्रतिगामी हैंक्योंकि उनका इरादा भारत को कमजोर करना है। आज दुनिया का कोई भी देशकोई भी समाज पुरानी ओैर घिसी-पिटी सोच के बूते आगे नहीं बढ़ सकता। गति तो पीछे लौटने में भी होती है यही तो प्रतिगामिता है। हमेे तय करना होगा कि हमे आगे बढऩा है या पीछे लौटना है। धर्मांधता और संकीर्णता के बूते हम आगे नहीं बढ़ सकते। इस सदी में हमें आगे बढऩा है तो विज्ञान द्वारा उपलब्ध कराये गए ज्ञान और सोच का ही सहारा लेना पड़ेगा। ग्लोबल हो रही दुनिया में हमारी सार्वजनिक चुनौतियां गंभीर होती जा रही है। हमनें बड़ी छलांग नहीं लगाई तो हम पिछडऩे के लिए अभिशप्त हो जाएंगे। एक बार पिछड़ गए तो फिर कहीं के नहीं रहेंगेे।
इसीलिए आप स्वयं अपना परिमार्जन कीजिए। आप और आप के लोग बार-बार राष्ट्रवाद की बात करते हैं। कभी सोचा है कि यह है क्याएक पत्र में विस्तार से स्पष्ट करना संभव नहीं होगा लेकिन इतना बताना चाहूंगा कि देश किन विशेष परिस्थितियों में राष्ट्र बनता है। पश्चिम में राष्ट्रों का निर्माण और विकास जिन स्थितियों में हुआ उससे हमारे देश की स्थिति कुछ भिन्न थी। लेकिन दोनों जगहों पर यह आधुनिक जमाने की परिघटना है। औद्योगिक क्रांति के साथ यह पनपा और अपने कारणों से पूंजीवादी जमाने में विकसित हुआ। पश्चिम में जब राष्ट्र बन रहे थे तब  एक निश्चित भूभाग संप्रभुताआबादी और भाषा के साथ जो सबसे प्रमुख तत्व इसमें नत्थी था वह था इसके निवासियों का सामूहिक स्वार्थ। इसी सामूहिक स्वार्थ की व्याख्या हमारा संविधान अवसर की समानता के रूप में करता है।
लेकिन पश्चिम का राष्ट्रवाद एक स्थिति में आकर भयावह हो गया और आज वहां उसकी कोई चर्चा भी नहीं करना चाहता। इस राष्ट्रवाद की तख्ती लेकर यूरोप ने दो-दो विश्वयुद्ध किये और तबाह हो गए। कुल मिलाकर यह राष्ट्रवाद एक ऐसा भयावह देवता साबित हुआ जिसने मानव समाज की सबसे ज्यादा बलि ली। इसी परिप्रेक्ष्य में हमारे महान कवि और चिंतक रवींद्रनाथ टैगोर ने इसकी तीखी आलोचना की। 14 अप्रैल1941 कोयानी मृत्यु के कुछ ही समय पूर्व कवि ने 'सभ्यता का संकटशीर्षक से एक लेख लिखा और व्याख्यान दिया। प्रधानमंत्री जीआपको समय निकालकर वह लेख पढऩा चाहिए।
भारत में औद्योगिक क्रांति नहीं हुई और पंूजीवाद भी सामंतवाद के रक्त मांस मज्जा के साथ विकसित हुआ। इसलिए यहां पश्चिम की तरह का नहीं एक अजूबे किस्म का राष्ट्रवाद विकसित हुआ। इसका राजनीतिक पक्ष उपनिवेशवाद के खिलाफ  रहा तो सामाजिक पक्ष पुरोहितवाद के खिलाफ। दोनों स्थितियों में मुक्ति की कामना इसका अभीष्ट रहा। इसके निर्माण में एक तरफ  तिलकगांधी और सुभाषभगत सिंह की कोशिशें थीं तो दूसरी ओर ज्योतिबा फुलेरानाडेआंबेडकर जैसे लोग सक्रिय थे। उपनिवेशवाद की समाप्ति के बाद सामाजिक आर्थिक वर्चस्व से मुक्ति की कामना ही अधिक प्रासंगिक हो गया। जवाहरलाल नेहरू ने सच्चे राष्ट्रनायक की तरह नये भारत की रूप-रेखा बनाई और उसमें प्रतिगामी सोच के लिए कोई जगह नहीं रखी। नये भारत के निर्माण के लिए उन्होंने साधू-संन्यासियों की जगह वैज्ञानिकोंमजदूरों और किसानों का आह्वान किया। देश में वैज्ञानिक चेतना विकसित करने पर जोर दिया।
लेकिन प्रधानमंत्री जीआप राष्ट्रवाद की इस धारा की बात नहीं करते। आप का राष्ट्रवाद शिवाजीसावरकर और गोलवलकर का रहा है जो हमेशा विवादों में रहा है। सावरकरगोलवलकर का राष्ट्रवाद भारतीय नहीं हिंदू है। इसके लिए हमेशा एक अवलंब राष्ट्र चाहिए जैसे कोई दूसरा धार्मिक राष्ट्र। शिवाजी के वक्त उनका जो हिंदवी राज्य था वह मुगल राज के सापेक्ष था और सावरकर का हिंदुत्व इस्लाम के सापेक्ष। हेडगेवार गोलवलकर का हिंदू राष्ट्रवाद भी मुस्लि या इसाई राष्ट्रवाद के सापेक्ष ही संभव होगा। लेकिन भारतीय राष्ट्र की विशेषता इसकी अपनी स्वतंत्र सत्ता है जिसमें अवसर की समानाता विकसित करने की अकूत क्षमता है।
जहां तक मैंने समझा है जवाहरलाल नेहरू वि.वि. इस राष्ट्रवाद की सबसे खूबसूरत पाठशाला है। वहां कभी-कभार जाता रहा हूं और मैंने अनुभव किया है कि जैसे भयमुक्त भारत की कामना कवि टैगोर ने की थी वैसा ही भारत वहां के ज्यादातर छात्र गढऩा चाहते हैं। सच है कि वहां माक्र्सवादियों का गढ़ था और एक हद तक अभी भी है। मनुवादियों ने माक्र्सवादियों को तो बखूबी बर्दाश्त किया लेकिन इधर परेशानी होने लगी जब वहां नए छात्र फूले आंबेडकरवाद बांचने लगे और माक्र्सवादियों ने पहली दफा उनसे हाथ मिलाया। पहली घटना तो महिषासुर प्रसंग को लेकर हुई। मनुवादी छात्र वहां दुर्गा की पूजा करने लगे थे। फूले आंबेडकरवादी छात्रों ने महिषासुर दिवस का आयोजन किया। दुर्गा और महिषासुर इतिहास के हिस्से नहीं है हमारी पौराणिकता के हैंऔर प्रधानमंत्री जीकेवल वर्चस्व प्राप्त तबकों का ही इतिहास नही होता केवल उन्हीं की पौराणिकताकेवल उनहीं की संस्कृति नहीं होती। शासित तबकों का भीतथाकथित 'नीचलोगों का भी - जो चुनाव के वक्त आप भी बन गए थे - एक इतिहास होता हैउनकी पौराणिकता भी होती है। वर्चस्व प्राप्त तबकों की पौराणिकता में दुर्गा हैं तो दलितपिछड़े तबकों की पौराणिकता में महिषासुर। आपने देवासुर संग्राम के बारे में सुना होगा। वर्चस्व प्राप्त लोग अपनी पौराणिकता के बहाने अपने वर्चस्व को धार देते हैंसमाज के पीछे रह गए लोग अपनी पौराणिकता की नई व्याख्या कर सांस्कृतिक प्रतिकार-प्रतिरोध करते हैं। वर्चस्व प्राप्त लोग राम की पूजा करने के लिए कहते हैं हमें अपने शंबूक की याद आती है जिसकी गर्दन राम ने केवल इसलिए काट दी थी कि वह ज्ञान हासिल करना चाहता था। आपने कभी सोचा है कि एक दलित पिछड़े वर्ग से आये खिलाड़ी को कभी अर्जुन पुुरस्कार मिलेगा तब उसे कैसा लगेगा। उसके मन में अपने एकलव्य की याद क्या नहीं आएगी?

आप जरा कलेजे पर हाथ रखकर सोचिए प्रधानमंत्री जीकि महिषासुरशंबूक और एकलव्य कौन थेवे विदेशी थे या विधर्मीउनकी चर्चा करनाउनको रेखांकित करना आपको राष्ट्रद्रोही कदम लगता है। अब अपने संघ के लोगों को कहिये कि वे अपने हिंदुत्व पर पुनर्विचार करें। उनका भारत तो अखंड भारत नहीं ही है उनका हिंदुत्व भी अखंड नहीं है। खंडित हिंदुत्व है उनकाब्राह्मण-हिंदुत्व है। आपके लोग इसी हिंदुत्व की बात करते हैं।
हम जे.एन.यू की ओर एक बार फिर चलें। 9 फरवरी2016 की घटना थी। यदि किसी छात्र ने देश विरोधी नारे लगाये हैं तो यह गलत है। जैसा कि मुझे बताया गया है कि भारत की बर्बादी तक जंग जारी रखने जैसे जुमले बोले गए। मैं इसकी तीखी भत्र्सना करना चाहूंगा। किसी की बर्बादी की बात हमें नहीं करनी चाहिए। पाकिस्तान की भी नहीं। वह हमारा पड़ोसी हैफले-फूले। दुनिया के तमाम देश फलेें-फूलें। आपका एक नारा मुझे सचमुच पसंद है सबका साथसबका विकास। लेकिन यह जमीन पर तो उतरे।
प्रधानमंत्री जीवि.वि. इसी के लिए तो बनते हैं। वहां अनेक देशों के लोग पढ़ते हैं। पुराने जमाने में जब हमारे यहां नालंदा था चीन के ह्वेनसांग और फाहियान वहां पढऩे आये थे। ब्रिटिश काल में भी हमारे लोग ऑक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज जाते थे। आपको पता होगा भारतीय छात्र वहां भारत की आजादी पर भी चर्चा करते थे। उनका संगठन था। उनकी कार्यवाही थी लेकिन ब्रिटेन के लोगों ने इसके लिए उनपर देशद्रोह का मुकदमा नहीं चलाया। आपके सावरकर भी वहां पढऩे गए थे और अपनी प्रसिद्ध किताब 'इंडियन वॉर ऑफ  इंडिपेंडेंस: 1857उन्होंने ब्रिटेन में रहकर पूरी की। वहीं उन्होंने 'फ्री इंडिया सोसायटीकी स्थापना की। हमें भी अपनी यूनिवर्सिटियों को इतनी आजादी देनी चाहिए कि वहां लोग मुक्त मन से विचार कर सकें। विश्वविद्यालय में जो जो विश्व शब्द है उस पर ध्यान दीजिये। आप उसे संघ का शिशुमंदिर बनाना चाहते हैंयूनिवर्सिटियां मानव जाति पर समग्रता से विचार करती हैंउसे देशभक्ति की पाठशाला मत बनाइए। हममें तो अभी वि.वि. पालने का शउर ही विकसित नहीं हुआ है। मान लीजिये जे.एन.यू में सौ-दो सौ पाकिस्तानी छात्र पढ़ते तो वह पाकिस्तान की बात नहीं करेंगे। विदेशों में हमारे छात्र पढ़ते हैं तो अपने भारत की बात नहीं करते हैं?

थोड़ी बात काश्मीर मुद्दे पर भी कर लेें। अफजल गुरु पर कतिपय छात्रों ने चर्चा की। इसके लिए इतना कोहराम मचाकर हमने केवल कश्मीरी समस्या को रेखांकित ही किया है। यह हमारा मूर्खतापूर्ण कदम कहा जाएगा। कश्मीर की समस्या पूरे भारत की समस्या से कुछ अलग और जटिल है। आपने वहां उस पी.डी.पी. के साथ सरकार बनाईजो अफजल को शहीद मानता है। आपका कदम सही है। सरकार बनाकर आपने संवाद बनाने की कोशिश की है। संवाद बनाकर ही बातें आगे बढ़ती हैबढऩी चाहिए यही तरीका है। पाकिस्तान की बार-बार की हरकतों के बावजूद हम उससे संवाद बनाने की कोशिश करते हैं काश्मीर तो अपना है। और मैं समझता हूं कि काश्मीर के मसले को आप मुझसे बेहतर समझते हैं क्योंकि मेरी जानकारी के अनुसार आप कुछ समय तक वहां रहे हैं। काश्मीर की समस्या थोड़ा पेचीदा हैवह ब्रिटिश भारत का हिस्सा नहीं थाअलग रियासत था। वह एक खास परिस्थिति में भारत से जुड़ाजो स्वाभाविक था। इस तरह उसकी स्थिति कुछ वैसी है जैसा किसी परिवार में गोद लिए बच्चे की होती है इसलिए हमारे संविधान में वहां के लिए एक विशेष धारा है। ऐसी धाराओं का सम्मान होना चाहिए। ऐसी ही धाराओं की बदौलत भविष्य में कभी अन्य देश भी भारतीय संघ में जुड़ सकते हैं। इसमें पाकिस्तानबांग्लादेशनेपाल भी हो सकता है। हमें सपने देखने नहीं छोडऩे चाहिए। सपने कभी सच भी होते हैं।
तो प्यारे प्रधानमंत्री जीनाराज नागरिकोंखासकर युवाओं से संवाद विकसित करना चाहिएतकरार नहीं। दंड देकरजबर्दस्ती देशभक्ति नहीं थोपी जा सकती। मुझे उन नाराज नौजवानों से अधिक खतरा आपके उन भक्तों से है जो राष्ट्रवाद की ताबीज-कंठी लटकाकर देश को लूट रहे हैं। कभी आपने अपने मित्र बड़े अंबानी से नहीं पूछा कि भाई जिस देश में किसानछोटे-छोटे कर्जांे को लेकर आत्महत्या कर रहे हैंवहां तुम हजार करोड़ का अपना घर क्यों बना रह होआपने पूंजीपतियों के लिए लाखों करोड़ के कर्ज माफी की घोसना की है लेकिन भारत के किसानों-मजदूरों की चिंता आपको नहीं है। हैदराबाद वि.वि. का एक होनहार छात्र रोहित वेमुला आत्महत्या करने पर मजबूर हुआ। आपको इसपर रोना भी आया। आपको समझ सकता हू। आप ही के शब्दोंमें आप नीच जात होपिछड़ी जमात के आदमी होमाक्र्सवादी शब्दावली के सर्वहारा हो आपबचपन में चाय बेचने वालेदूसरों के घर मजदूरी करनेवाली महान मां के बेटे। आप पर कुछ भरोसा है। आपसे संवाद करने से बात बन सकती है। कुछ समय पहले आंबेडकर की मूरत पर जब आप माला चढ़ा रहे थेे तब मेरे मन में ख्याल आया था कि काश उनके विचारों की माला अपने गले में डाल लेते। एक मौन क्रांति हो जाती। इसीलिए विवेकानंद के शब्द उधार लेकर कहना चाहूंगा कि उठोजागो और रूको नहीं। तुम्हारे संस्कार संघ के संस्कार नहीं हैंतुम मनुवादियों के घेरे से विद्रोह करोउन्हें ध्वस्त करो। उनका देश झूठा हैरास्ट झूठा हैधर्म झूठा है। आप झूठ के लाक्षागृह से निकल जाओ मोदी जी। आपका तो कमराष्ट्र का ज्यादा भला होगा।

सादर
आपका
प्रेमकुमार मणि

सोमवार, 22 फ़रवरी 2016

भाजपा जाटों को मूर्ख तो नहीं बना रही है ?

डॉ.लाल रत्नाकर
स्वामी दयानन्द सरस्वती ने सत्यार्थ प्रकाश के ग्यारहवें सम्मुलास में उल्लिखित जाट की गाय की कथा की याद आती है तब उसका आरक्षण के लिए किया जाने वाला यह संघर्ष याद आता है !
खबरें ;

बुधवार, 17 फ़रवरी 2016

क्या यही राष्ट्रवाद है!

रोहित वेमुला 
-----------------------------------
भारतीय शिक्षा व्यवस्था का आधुनिक उत्पीड़न का चेहरा।  ब्राह्मिणवाद का क्रूर उत्पात और राजनैतिक समर्थन के साथ भारतीय न्याय व्यवस्था के मुखौटे का जितना भयावह रूप निकल कर सामने आया है इसपर बहस हो इससे पहले ही नया उत्पात जिसे राष्ट्रवाद का नाम देकर देश के प्रख्यात विश्वविद्यालय जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय नई दिल्ली से जिस प्रायोजित उत्पात को अंजाम दिया गया है, उसके फलितार्थ आने वाले दिनों में पुरे देश के दलितों, पिछड़ों  व् अल्पसंख्यकों को सहने होंगे !
सबसे आश्चर्य की बात तो यह है उन दलों के किसी (दल) संगठन को इसकी चिंता नहीं है, जो इन वर्गों के वोट के बलपर राजनीती करते हैं ? जिससे यह आंदोलन चलाना केवल भारतीय दलित पिछड़े युवाओं  के लिए गहरे संकट में आता जा रहा है, किसी दल का राष्ट्रीय प्रवक्ता जब ये कहता हो की ऐसी हत्याए तो आम बात हैं, इसपर राजनीती की रोटी सेंका जाना ठीक नहीं है, ऐसा कहना कितना शर्मसार करता है सामाजिक गैर बराबरी की सोच और उस आंदोलन को जिसके बलपर पूरा परिवार सत्ता के भिटहुर पर बैठा है !
सामजिक न्याय के सवाल पर ब्राह्मिणवादी सत्ता हमेशा अलग अलग हमला करती है, दलित और पिछड़ों अल्पसंख़्यको को बाँट कर वह अपना निहितार्थ पूरा करती है जबकि शीर्ष पर हर तरह से किसी ब्राह्मिन को ही रखती है। 
कन्हैया कुमार कुछ इसी तरह का उनका प्रयोग है !       



क्या यही राष्ट्रवाद है!
-डॉ. लाल रत्नाकर 
यह शर्मसार करता राष्ट्रवाद ?
क्या यही राष्ट्रवाद है!
यह किसका राष्ट्रवाद है ?
सदियों से लूट रहे लूटेरों का राष्ट्रवाद ?
जिसे किसी जाति ने हथिया लिया हो!
धर्म या गिरोह के नाम पर !
और उसका मनमाना प्रयोग कर रहा हो,
जातियों के दमन के लिये !
उन जातियों के होनहारों को आत्महत्या,
तक मजबूर करने का राष्ट्रवाद है!
यह शर्मसार करता राष्ट्रवाद?
क्या यही राष्ट्रवाद है!
*************************
भाजपा के राष्ट्रवाद का विरोध हो रहा न की देश का। क्योंकि संघ और भाजपा के राष्ट्रवाद में दलित नहीं है और न ही पिछड़ा को कोई जगह किसान मजदूर की हालत तो विचित्र है केवल बामन और बनियों की जगह है वहां उनके अनुरूप नीतिया बनाना ही इनका राष्ट्रवाद है, जिसका सभी दलित,पिछड़े, अल्पसंख्यक और किसान मज़दूर उनके अमानवीय नीतियों का विरोध करते हैं  जिसको ये राष्ट्रवाद का विरोध कहते हैं।   

मंगलवार, 16 फ़रवरी 2016

http://www.livehindustan.com/news/national/article1-budget-session-all-party-meeting-prime-minister-modi-says-iam-not-a-pm-of-bjp-i-am-pm-of-country-517218.html

मैं भाजपा का नहीं, देश का प्रधानमंत्री हूं: मोदी

नई दिल्ली, एजेंसियांFirst Published:16-02-2016 08:19:07 PMLast Updated:16-02-2016 08:28:02 PM
मैं भाजपा का नहीं, देश का प्रधानमंत्री हूं: मोदी
जेएनयू विवाद की गूंज शनिवार को बजट सत्र के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में भी सुनाई दी। पीएम मोदी के सामने विपक्ष ने यह मुद्दा उठाया।
इस पर मोदी ने कहा कि वह भाजपा के नहीं, देश के प्रधानमंत्री हैं। इसलिए कोई भी कार्रवाई देश के नेता के तौर पर करूंगा, पार्टी नेता के रूप में नहीं। पीएम ने कहा कि विपक्ष की हर चिंता को दूर किया जाएगा।
संसद में चर्चा को तैयार : केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि अगर 23 फरवरी से शुरू हो रहे संसद के बजट सत्र में विपक्ष जेएनयू मुद्दे पर चर्चा चाहता है तो सरकार इसके लिए तैयार है। सर्वदलीय बैठक में कई दलों ने जेएनूय छात्रों पर देशद्रोह के केस में कार्रवाई पर चिंता जताई। दूसरी ओर केंद्र सरकार ने इस बात पर जोर दिया कि छात्रों द्वारा की गई नारेबाजी अत्यंत आपत्तिजनक थी।
विपक्ष ने क्या कहा
कांग्रेस : बैठक में राज्यसभा में विपक्ष के नता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि देश की अखंडता और संविधान के खिलाफ नारेबाजी लगाने वाले छात्रों का कांग्रेस कतई समर्थन नहीं करती। हालांकि आजाद ने देशद्रोह के आरोप में कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी का विरोध किया। साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा के कई नेता कांग्रेस नेतृत्व को देशद्रोहियों का समर्थक बनाकर बदनाम कर रहे हैं, इस पर रोक लगाई जाए।
तृणमूल कांग्रेस : पार्टी ने सर्वदलीय बैठक में जीएसटी विधेयक को पारित कराने के विषय पर चर्चा की।
जदयू : पार्टी अध्यक्ष शरद यादव ने कहा कि संसद में सुचारू रूप से कामकाज के साथ सभी विषयों पर चर्चा होनी चाहिए।
सरकार ने दिया जवाब : कांग्रेस की चिंता पर वेंकैया नायडू ने कहा कि बोलते वक्त सभी दलों को संयम बरतना चाहिए। हालांकि उन्होंने कांग्रेस को यह भी याद दिलाया कि विपक्ष की ओर से पीएम मोदी के संदर्भ में हिटलर जैसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है।
 ************************

प्रधानमंत्री जी 
आप देश के प्रधानमंत्री होने का अहसास किसको करा रहे हैं, आप संघियों के प्रधानमंत्री होकर रह गए हैं आपके नाक के नीचे ब्राह्मिणों का तांडव चल रहा है आप "देश" की बात करते हैं, मुट्ठीभर ब्राह्मिणों के लोगों ने आपको दबोच लिया है दिखाने को आप जोशी आडवाणी और सिन्हा को भले अलग किये हों पर आपके इर्द गिर्द नागपुर से लेकर पाटालपुर तक ब्रह्मिनो का जमावड़ा है ?
हैदराबाद,जेयनयु, AIIMS  वाराणसी जहाँ देखिये केवल ब्राह्मिणों का आज राज चल रहा है, आज तो कांग्रेस और कम्युनिस्टों के ब्राह्मिणवाद को मात देकर आपने जो कुछ किया है यह राष्ट्रवाद किसका है केवल और केवल संघियों का राष्ट्र है, जितना बड़ा नाटक ये राष्ट्र के नामपर कर रहे हैं इससे देश को जितना गर्त में ले जाने की तैयारी है उसका खामियाज़ा जनता भोग रही है?
हाँ ! कांग्रेस ने ब्राह्मिनवाद का जितना विस्तार ६० वर्षों में किया होगा यह तो आप एक साल में ही कर दिए हैं ?
जनता ने आपको उसी ब्राह्मिनवाद को मिटाने के लिए वोट दिया है उस ब्राह्मिनवाद को बढ़ाने के लिए नहीं ?
  

रविवार, 7 फ़रवरी 2016

समाजवादी कार्यकर्ता की बेचैनी !



समाजवादी कार्यकर्ता की बेचैनी-------------!

ब्लाक प्रमुख चुनाव आज...



मेरे गांव के प्रत्याशी श्री सतेंद्र पाल सिंह जी द्वारा मेरे श्रीमती उषा चौहान का समर्थन करने पर जान से मारने की धमकियों का दौर शुरू.....

*****************
जनाब ! यह लोकतन्त्र है, 
वोट तन्त्र है,यहां सिर्फ सेवा,समर्पण,सदाशयता,प्रेम,करुणा का महत्व होना चाहिए लेकिन स्थितियां कितनी विद्रूप हो गयी हैं कि इस लोकतन्त्र में गुंडई,माफियागर्दी,धन,धमकी ने महत्वपूर्ण मुकाम हासिल कर लिया है।

मेरे ब्लॉक रामपुर कारखाना में जो मेरे गांव डुमरी में स्थित है,प्रमुख पद के दो प्रत्याशी हैं।एक सपा समर्थित श्री सतेंद्र पाल सिंह जी जो विगत 15 वर्ष से मेरे ब्लाक की प्रमुखी चला रहे हैं (इसके पूर्व 12 वर्ष ग्राम प्रधान रहे,इन्हें हराके मेरी पत्नी ने 2000 में प्रधानी छीनी) और मेरे गांव के एवं मेरे घर के ठीक सामने के हैं।ये कभी समाजवादी पार्टी को वोट नही दिए हैं तथा सदैव से मेरे भी धुर विरोधी रहे हैं दूसरी प्रत्याशी सपा की बागी श्रीमती उषा चौहान जी हैं,ये भी सपाई नही रही हैं क्योकि इनके भसुर श्री राजाराम चौहान जी विगत 2012 का विधान सभा चुनाव बसपा से लड़ चुके हैं और बसपा के चौहान समाज के मण्डल कोआर्डिनेटर रह चुके हैं पर बीडीसी चुनाव के पूर्व इन्होंने सपा ज्वाइन कर झंडा लगा लिया था और जिले पर उम्मीदवारी हेतु एकमात्र आवेदन भी किया था।

आज 7 फ़रवरी 2016 को मतदान होना है।जीत-हार जिसकी हो पर सबल लोग धमकियों का दौर शुरू कर दिए हैं। मेरे गांव के प्रत्याशी श्री सतेंद्र पाल सिंह जी वैसे तो मुझे पिछले 1995 से ही मार रहे हैं। मेरे मामा और जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री रामप्यारे यादव जी से एक दशक पूर्व इन्होंने कहा था कि चन्द्रभूषण को तो जब चाहूँगा तब ए के 47 से तड़तडा दूंगा,मतलब मैं तो उनकी मर्जी पर जिन्दा हूँ।अब फिर उन्होंने कहना शुरू किया है कि चन्द्रभूषणा को मारना पड़ेगा। 05 फ़रवरी को उन्होंने किसी को फोन पर बात करते हुए कहा कि "अब चन्द्रभूषणा को मारना पड़ेगा।"मेरे भांजे सोनू यादव ने इसे सुनकर मुझे फोन किया कि मामा आप कहाँ हैं तो मैंने कहा कि मैं तो राष्ट्रीय सहारा अख़बार के दफ्तर में देवरिया हूँ,तो उसने पूरा वाकया बताया।मेरे साले और पत्नी ने भी ऐसी धमकी भरी बातो को सुना और मुझे बताया।06 फ़रवरी की रात में तो गजब हो गया,दलित बस्ती की अत्यंत गरीब दो महिलाएं रात के पौने 9 बजे मेरे घर पुक्का फार के रोते हुए हाथ में डंडा लिए आ धमकीं और रोते हुए बोलीं कि अभी बोलेरो गाड़ी से टेलहु सिंह पुत्र उदयप्रताप सिंह यह कहते हुए जा रहे थे कि" कल चन्द्रभूषण को गोली मार दिया जायेगा।सतेंद्र पाल सिंह ने बिहार से गुंडे बुला लिया है और कल गोली चलेगी।"दोनों दलित समाज की मेरी शुभेच्छु महिलाये रो रही थीं और मैं हंस रहा था।मैंने उन्हें समझाया कि देखिये सबको मरना है,कोई अमर नही है।आपलोगो का मुझे इतना स्नेह है,पर गड्ढे में पैर पड़ जाय, हार्ट अटैक हो जाय या और कोई बात हो जाय तो भी तो किसी की मौत हो सकती है।हमे मौत से घबड़ाना नही चाहिए।डर के रोज-रोज मरने से तो बढ़िया है सतेंद्र पाल जी की गोली से एक ही दिन में बहादुरी के साथ मरना।

कितना समय असहिष्णु होता जा रहा है। हमने देखा है कि समाजवादी दल के राजनारायण जी जैसे नेता बनारस में चुनाव लड़ते वक्त कांग्रेस के पण्डित कमलापति त्रिपाठी जी को दिन भर खूब खरी-खोटी कहते थे और शाम होते ही अपनी खटारा जीप त्रिपाठी जी के कार्यालय पर लेकर पँहुच जाते थे।कमला पति जी पूछते थे कि क्या बात है राजनारायण जी, तो वे कहते थे कि गाड़ी का खर्च चाहिए तभी तो कल आपके विरुद्ध भाषण करूँगा। कमला पति जी अपने विपक्षी प्रत्याशी को आदर सहित चन्दा देकर उन्हें विदा करते थे।

नाई नन्दकिशोर जी की आत्मकथा पढ़ रहा था जिसमे उन्होंने लिखा है कि वे नेहरू जी के दामाद और इंदिरा जी के पति श्री फिरोज गांधी जी के विरुद्ध सोशलिस्ट पार्टी से चुनाव लड़ रहे थे । लोहिया जी ने नारा दिया था कि "जमाई के विरुद्ध नाई।"नन्दकिशोर जी के ही पत्र का जबाब लोहिया जी ने लिखा है जो "एक शूद्र के नाम लोहिया का पत्र"नाम से छप चुका है।नन्दकिशोर जी ने लिखा है कि वे सायकिल से अपना प्रचार करते थे और फिरोज गांधी जी के लिए पूरी सत्ता लगी थी।फिरोज गांधी जी सरकारी मेहमान थे क्योकि प्रधानमन्त्री के दामाद थे वहीं वे एक मामूली हजाम सोशलिस्ट वर्कर। वे लिखते हैं कि हम दोनों लोग आमने-सामने लड़ रहे थे लेकिन फिरोज गांधी जी रोजाना नन्दकिशोर जी को रात में ढुँढवा कर बुलवाते थे और साथ में चाय पिलाते थे। चाय खुद इंदिरा जी बनाती थीं । एक यह भी लोकतांत्रिक चरित्र था और एक हमारे भाई सतेंद्र पाल सिंह जी का लोकतांत्रिक चरित्र है कि वे मुझे विगत 20-22 वर्ष से रोजाना मारते हैं?

भाई सतेंद्र पाल जी ! मैं आपसे 1995 में हारा था,2000,2005 में जीता था पर हार और जीत को एक समान लिया। आप भी कुछ ऐसा ही बनिए। यदि पुराने जीवन से बाहर नही निकल पा रहे हैं तो सुकून नही रहेगा। पुरानी आपराधिक केंचुल उतार फेंकिए,लोगो से बिना काम के भी स्नेहपूर्वक मिलिए, बदले की भावना न रखिये,जिसने वोट दिया उसका भी भला, जिसने वोट नही दिया उसका भी भला का विचार आत्मसात करिये। माना कि आप आपराधिक जगत के सितारे रहे हो पर कोई अजर-अमर नही है अंतर केवल इतना है कि मैं 47 की उम्र में मारा जाऊं और आप 80-90 तक जी लो,पर मरना तो साश्वत सत्य है।

खैर भाई सतेंद्र पाल सिंह जी! डरने से बेहतर मरना है और बेशक आप मार देना पर मेरा संघर्ष जारी रहेगा।

*चंद्रभूषण सिंह यादव 

(इसे क्या कहियेगा इसमें समाजवादी पार्टी के नुमाइंदे और चापलूसों की जिस जमात से अवाम के उन होनहार और ईमानदार लोगों को लड़ना हो कैसे लड़ेंगे ?)

एकात्म मानवतावाद

कुछ विद्वान मित्रों का मानना है कि भाजपा की तरफ आम लोगों का आकर्षण बढ़ रहा है और वह इसलिए कि उन लोगों के मन में उनमें  हिंदू होने का म...