बुधवार, 5 जून 2013

वाह नेता जी ;

"प्रदेश की नौकरशाही में बड़ा फेरबदल हो सकता है। इसके संकेत प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने बुधवार को बृजेंद्र स्वरूप पार्क में आयोजित पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में दिए।"

संभवतः कुछ लोग इस पर विश्वास भी कर रहे होंगे, पर ऐसा है नहीं अभी पिछले दिनों संज्ञान में आया था की 'नोएडा' में उन्ही अधिकारियों को लोट (बड़ी संख्या) में पोस्ट किया गया है जो पिछली सरकार में यहाँ पोस्ट थे, यह खेल कितनी आसानी से समझ में आता है, नेताजी लोग किसको उल्लू बना रहे हैं, पिछले दिनों ही एक 'पिछड़ों के एक ईमानदार अफसर को इन्होने ही बदलकर एक सवर्ण अफसर को अपने यहाँ पोस्ट किया है, वर्ग चेतना की इससे बड़ी मिशाल तो कभी मिलेगी ही नहीं.
हो सकता है ये नेता हम लोगों की बातों को मजाक में लें 'हसी में टाल दें' पर इनका ख्याल आते ही दिल दिमाग बैठने लगता है की ये सामाजिक न्याय के आन्दोलनों की देन हैं या 'विरासत' के राज्याधिकारी हो गए हैं और सहनशाह भी। इसीलिए इनसे डर लगता है कहीं ये इतने गहरे तक सारे सिस्टम को न ले जाएँ की दुबारा मौका ही न मिले सुधार और बदलाव की बात करने का। 
डॉ . लाल रत्नाकर  

यूपी: प्रदेश में बड़े फेरबदल के संकेत दिए शिवपाल ने

कानपुर/ब्यूरो | अंतिम अपडेट 6 जून 2013 12:39 AM IST पर
system in up is not good
प्रदेश की नौकरशाही में बड़ा फेरबदल हो सकता है। इसके संकेत प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने बुधवार को बृजेंद्र स्वरूप पार्क में आयोजित पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में दिए।
उन्होंने मंच से कहा कि प्रदेश की बिगड़ी व्यवस्था को सुधारने की जरूरत है। यह काम जल्द ही किया जाएगा। कहा कि पूर्व सरकार के समय जो अव्यवस्थाएं पैदा की गई थी वे अभी पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाई हैं। 
यह भी कहा कि नौकरशाही काम नहीं करना चाहती है। इसे भी ठीक करना होगा। प्रदेश के जनपदों से लगातार अधिकारियों की लापरवाही की शिकायतें आ रही हैं। जिसे गंभीरता से लिया जा रहा है।
कैबिनेट मंत्री ने आरोप लगाया कि पूर्व की बसपा सरकार ने पिछड़ों के साथ काफी अन्याय किया है। नौकरशाही के बल पर और अन्य तरीकों से इन लोगों को प्रताड़ित किया गया।
यही वजह है कि पिछड़े वर्ग के लोगों में काफी गुस्सा है। जिसका असर आगामी लोकसभा चुनाव में दिखेगा। पिछड़ी जाति के लोगों ने खेत खलिहान से लेकर देश को आजादी दिलाने तक विशेष भूमिका निभाई है।
ऐसे कर्मवीरों की कांग्रेस और भाजपा जैसी राष्ट्रीय पार्टियों ने हमेशा उपेक्षा की। इस मौके उन्होंने कानपुर लोकसभा सीट से प्रत्याशी राजू श्रीवास्तव और अकबरपुर सीट से प्रत्याशी लाल सिंह तोमर को भारी बहुमत से जिताने की भी अपील की। कार्यकर्ताओं से उन्होंने लोकसभा चुनाव के लिए तैयार रहने को कहा।
सम्मेलन में कानपुर के अलावा, मेरठ, सहारनपुर और आजमगढ़ मंडल से भी पार्टी से जुड़े पदाधिकारी पहुंचे। सभी अपने साथ समर्थकों की भीड़ भी लेकर आए थे।
सम्मेलन में प्रमुख रूप से कैबिनेट मंत्री बलराम यादव, गायत्री प्रसाद प्रजापति, प्रेमदास कठेरिया, रामआसरे विश्वकर्मा, जयप्रकाश, शिवकुमार बेरिया, अरुणा कोरी, लीलावती कुशवाहा, विद्यावती, पिछड़ा वर्ग के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम, महानगर अध्यक्ष चंद्रेश सिंह, लोहिया वाहिनी के महासचिव अरुण यादव सहित विधायक, सांसद और भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एकात्म मानवतावाद

कुछ विद्वान मित्रों का मानना है कि भाजपा की तरफ आम लोगों का आकर्षण बढ़ रहा है और वह इसलिए कि उन लोगों के मन में उनमें  हिंदू होने का म...