रविवार, 10 जनवरी 2016

दलितों पिछड़ों को ठगने की भजपा की तैयारी !

मिशन यूपी के लिए शुरू हुई भाजपा की सोशल इंजीनियरिंग

भाजपा के अनुसूचित जाति मोर्चा की बैठक हुई

भाजपा ने 2017 में यूपी के चुनावी समर के लिए कमर कसना शुरू कर दिया है। इस सिलसिले में पार्टी से जुड़े दलित नेताओं की 17 जनवरी को दिल्ली में बैठक बुलाई गई है।
इसमें जाने के लिए नाम तय करने के वास्ते रविवार को यहां भाजपा के अनुसूचित जाति मोर्चा की बैठक हुई। इसमें तय हुआ कि प्रदेश से पार्टी से जुड़े दलित वर्ग के सौ लोगों को दिल्ली बैठक में भेजा जाए।
अनुसूचित मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य डॉ. श्याम सिंह कठेरिया ने बताया कि यहां हुई बैठक में मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिवाकर सेठ, स्वरूप चंद्र राजन और राष्ट्रीय मंत्री केके राज मौजूद रहे।
दिल्ली बैठक के लिए अनुसूचित जाति के नेताओं की सूची तय करने की जिम्मेदारी जिन लोगों को सौंपी गई उनमें मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व सांसद विद्यासागर सोनकर, पूर्व एमएलसी रामनरेश रावत, प्रदेश महामंत्री रामचंद्र कनौजिया, जितेन्द्र सोनकर, रमेश तूफानी, अलकनंदन हंस, फूलचंद्र धानुक व जगदीश धानुक प्रमुख हैं।
यूपी के नेताओं को सलाह दी गई है कि अनुसूचित जातियों में संख्या के लिहाज से अच्छी भागीदारी रखने वाले जाटव, पासी, धोबी, वाल्मीकि, धानुक और सोनकर जाति के प्रतिनिधियों को दिल्ली जरूर भेजें।
दिल्ली जाने वाले भाजपा के दलित नेताओं को अनुसूचित जाति के लोगों को केंद्र सरकार के कामकाज की जानकारी देने के साथ ही सम्मेलनों के आयोजन की जिम्मेदारी भी सौंपी जाएगी।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एकात्म मानवतावाद

कुछ विद्वान मित्रों का मानना है कि भाजपा की तरफ आम लोगों का आकर्षण बढ़ रहा है और वह इसलिए कि उन लोगों के मन में उनमें  हिंदू होने का म...