शनिवार, 26 जनवरी 2013

ये कैसा पागलपन है कौन कहता है इन्हें बुद्धिजीवी !


दरअसल नंदी को पिछड़ों दलितों में ही भ्रष्टाचार दिखाई देता है . इसमें इनका दोष भी नहीं है। ये जिस संस्कृति और समाज से आते हैं वहां अपने भ्रष्ट 'भ्रष्ट' नज़र नहीं आते, इनके यहाँ भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार नहीं बल्कि शिष्टाचार है . अतः इन्हें पिछड़े और दलित भ्रष्ट नज़र आ रहे हैं .-

-डॉ.लाल रत्नाकर (26-01-2013 रात्रि 9.30)

आशीष नंदी ने जो बात कही है वो वन साइडेड है। सवर्ण कुंठा का प्रदर्शन है। उनको हज़ार-लाख रुपैयॆ का भ्रस्टाचार दिखाई देता है मगर लाखो हज़ारो करोड़ का नहीं। भ्रस्टाचार हमेशा ऊपर से नीचे जाता है। बड़े भ्रस्टाचार को नज़रंदाज़ करके वे अपनी सवर्ण -कुंठा का परिचय दे रहे है। और दलित-ओबीसी के लिए उनके मन में जो घृणा है वो उसकी नुमाईश कर रहे है।
-राजेंद्र यदव (26-01-2013 रात्रि -11-00 बजे)

आशीष नन्दी जी जयपुर के साहित्य मेले में जो कुछ कहा, वह बेहद शर्मनाक और अनर्गल है। माफी मांगने से उनका गुनाह माफ होने वाला नहीं। पर मैं उनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई या पुलिस में शिकायत द्रद कराने का समर्थन नहीं कर सकता। वह एक बुद्दिजीवी हैं और उऩ्हें अपनी बात कहने का अधिकार है। मैं उनसे असहंमत हूं, उनका विरोध करता हूं पर वह अपनी गलत बात भी कह सकें, इसके लिए उन्हें आजादी होनी चाहिए। हम ऐसे जनतंत्र के स्वप्नदर्शी हैं।
-उर्मिलेश 'उर्मिल' (26-01-2013 रात्रि 12.00)

आशीष नंदी के बयान पर सोशल मीडिया में हलचल

 रविवार, 27 जनवरी, 2013 को 00:09 IST तक के समाचार
आशीष नंदी
बीबीसी हिन्दी के फेसबुक पेज पर आशीष नंदी के बयान से जुड़ी पोस्ट पर सैकड़ों प्रतिक्रियाएं आई हैं
जयपुर में चल रहे साहित्य महोत्सव में समाज वैज्ञानिक आशीष नंदी के विवादित बयान पर जहां दिन भर मीडिया में चर्चा चलती रही, वहीं सोशल मीडिया भी इससे अछूता नहीं रहा.
बीबीसी हिन्दी के फेसबुक पेज पर आशीष नंदी के बयान से जुड़ी पोस्ट पर कई प्रतिक्रियाएं आई हैं जिनमें कुछ तो उनके बयान का समर्थन करते हैं और कुछ बेहद तल्खी के साथ विरोध कर रहे हैं.
फेसबुक पर विजय कुमार मलिक लिखते हैं, “सही बात बोलने पर बवाल कोई नई बात नहीं है, ये आज की राजनीति की परम्परा सी हो गई है.”
वहीं राजेंद्र कुमार पांडेय की प्रतिक्रिया है, “हमारे देश में ब्राह्मण और दूसरे सवर्णों को गाली देने पर ताली मिलती है और संवैधानिक अधिकारों के तहत अपने विचार व्यक्त करने वाले की गिरफ्तारी की मांग की जाती है.”
जबकि अंजलि वर्मा की टिप्पणी है, “सच तो ये है कि कितने शर्म की बात है कि भ्रष्टाचार जैसे राष्ट्रीय मुद्दे को भी जाति के आधार पर जोड़ा जा रहा है जो कि बहुत ही भयावह है. हम कभी नहीं सुधर सकते, इससे तो कम से कम यही साबित होता है.”
एक अन्य पाठक भारत भूषण के विचार कुछ अलग तरह के हैं. वो लिखते हैं, “इस वर्ग के लोग अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ाकर चपरासी भी नहीं बना सकते एवं सरकारी अस्पताल में इलाज कराकर कौन मरना चाहेगा, तो भला वो ऊपरी आमदनी का जुगाड़ क्यों न करे?"
वो कहते हैं, "एक चीज और. कुछ लोगों की अकूत सम्पत्ति देश के सभी शहरों में है क्योंकि इनके पुरखे गुलाम भारत में भी सत्ता के करीब थे, तो फिर गरीबी में पले-बढ़े लोग यदि मौका मिलने पर थोड़ा गलत कर लेते हैं तो पकड़ाते भी है, जबकि अकूत सम्पदा वालों का ये पुश्तैनी धंधा है और वर्तमान परिवेश में वे ईमानदार माने जाते हैं.”
योगेश चौधरी टिप्पणी करते हैं, “ये हम सब जानते हैं कि क्या सही है और क्या गलत. ये इंडिया है, यहां जिसका जो मन कर रहा है, बोले जा रहा है. मेरे हिसाब से तो हम लोगों को इस मसले पर बहस करने की बजाय अपने मकसद पर ध्यान देना चाहिए. समाज में शिक्षा और जागरूकता जितनी बढ़ेगी, देश को उतना ही फायदा होगा.”
शंकर मेघवाल कहते हैं, “ये बयान गलत है, बेईमानों की कोई जाति नहीं होती.”
तो चंद्रेश खरे लिखते हैं, “यदि हिदुओं को एकजुट करना है तो आरक्षण की राजनीति बंद करनी पड़ेगी और यदि देश को एकजुट करना है तो अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक की राजनीति छोड़कर सबको अपनाना पड़ेगा, क्योंकि बहुसंख्यक और ऊँची जाति के बच्चे भी गरीबी, अशिक्षा और बेरोजगारी से बेहाल हैं आज के भारत में.”

आशीष नंदी को तुरंत गिरफ्तार किया जाए: मायावती

 शनिवार, 26 जनवरी, 2013 को 22:45 IST तक के समाचार
आशीष नंदी
आशीष नंदी का कहना है कि वे अपने बयान पर क़ायम हैं
जयपुर साहित्य उत्सव में राजनीतिक आलोचक आशीष नंदी ने भ्रष्टाचार पर एक विवादित बयान देते हुए कहा है कि भ्रष्टाचार करने वाले ज्यादातर लोग अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) वर्ग के होते हैं.
उनके इस कथित बयान पर बहुजन समाजवादी पार्टी प्रमुख मायावती ने उन्हें गिरफ्तार किए जाने की मांग की है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मायावती ने पत्रकारों से कहा, "उन्हें तुरंत माफी मांगनी चाहिए. हमारी पार्टी उनके बयान की भर्त्सना करती है. हमारी पार्टी राजस्थान सरकार से मांग करती है कि उनके खिलाफ तुरंत मामला दर्ज करके कड़ी कार्रवाई करे और उन्हें जेल भेज दिया जाए."
बीबीसी संवाददाता नारायण बारेठ का कहना है कि आशीष नंदी के इस बयान के बाद दौसा से निर्दलीय सांसद किरोड़ीलाल मीणा ने आयोजन स्थल पर पहुंचकर हंगामा करके अपना विरोध दर्ज कराया है.
इस मामले में एक व्यक्ति की शिकायत के बाद पुलिस ने आशीष नंदी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.
जयपुर साहित्य उत्सव में परिचर्चा के दौरान आशीष नंदी ने कहा, ''ज्यादातर भ्रष्ट लोग ओबीसी, एससी और एसटी समुदायों के होते हैं.''
उन्होंने कहा, ''जब तक ऐसा होता रहेगा, भारत के लोग भुगतते रहेंगे.''

बयान पर क़ायम

"आप किसी गरीब आदमी को पकड़ लेते हैं जो 20 रूपये के लिए टिकट की कालाबाज़ारी कर रहा होता है और कहते हैं कि भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन अमीर लोग करोड़ों रूपये का भ्रष्टाचार कर जाते हैं और पकड़ में नहीं आते हैं."
आशीष नंदी
आशीष नंदी ने बाद में कहा कि वह अपने बयान पर क़ायम हैं और अपने खिलाफ किसी भी तरह की पुलिस कार्रवाई के लिए तैयार हैं.
आशीष नंदी का कहना है कि उनके बयान को गलत परिप्रेक्ष्य में समझा गया है.
परिचर्चा में मौजूद कुछ पत्रकारों समेत श्रोताओं में से भी ज्यादातर लोगों ने नंदी के इस बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है.
लेकिन नंदी ने बाद में सफाई देते हुए कहा, ''आप किसी गरीब आदमी को पकड़ लेते हैं जो 20 रूपये के लिए टिकट की कालाबाज़ारी कर रहा होता है और कहते हैं कि भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन अमीर लोग करोड़ों रूपये का भ्रष्टाचार कर जाते हैं और पकड़ में नहीं आते हैं.''
वहीं परिचर्चा के पहले हिस्से में 'विचारों का गणतंत्र' विषय के आलोक में भारतीय गणतंत्र पर चर्चा करते हुए लेखक और पत्रकार तरुण तेजपाल ने कहा कि भ्रष्टाचार हर वर्ग, हर तबके में है.
तरुण तेजपाल ने नाराज़गी जाहिर करते हुए मीडिया पर आरोप लगाया है कि आशीष नंदी के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है.
आशीष नंदी के कथित बयान के विरोध में मायावती बहुजन समाजपार्टी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है, ''पार्टी मांग करती है कि इस मामले में राजस्थान सरकार को तुरंत उनके खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और अन्य सख्त कानूनी धाराओं में तहत कार्रवाई सुनिश्चित करके जल्द से जेल भेज देना चाहिए.''

(हिंदुस्तान )

दलितों विरोधी टिप्पणी पर आशीष नंदी के खिलाफ FIR
जयपुर, एजेंसी
(First Published:26-01-13 10:26 PM Last Updated:26-01-13 11:50 PM)

इस टिप्पणी के कुछ घंटों बाद ही उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506 आपराधिक धमकी और अनुसूचित जाति जनजाति उत्पीड़न रोकथाम अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया।
राजस्थान अनुसूचित जाति जनजाति मंच के अध्यक्ष राजपाल मीणा ने यह प्राथमिकी दर्ज करायी। पुलिस का कहना है कि इस मामले की जांच की जायेगी। महोत्सव में पैनल चर्चा के दौरान नंदी ने कहा कि यह एक हकीकत है कि अधिकतर भ्रष्ट लोग अन्य पिछड़ा वर्ग और अनुसूचित जातियों से आते हैं और अब अनुसूचित जनजाति के लोग भी अधिक संख्या में भ्रष्ट हो रहे हैं।
उन्होंने इससे भी आगे जाते हुए कहा कि मैं एक उदाहरण देता हूं। सबसे कम भ्रष्टाचार वाला राज्य पश्चिम बंगाल है, जहां माकपा की सरकार थी। मैं आपका ध्यान इस बात पर दिलाना चाहता हूं कि उस राज्य में पिछले 100 सालों में अजा, अजजा या ओबीसी का कोई व्यक्ति सत्ता के करीब नहीं पहुंचा।
पैनल में शामिल वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष और दर्शक दीर्घा में बैठे कई लोगों ने इस बयान पर आपत्ति जताई। आशुतोष ने कहा कि यह मेरा सुना गया सबसे अनोखा बयान है। ब्राह्मण और सवर्ण जातियां सभी तरह का भ्रष्टाचार करके बच निकली हैं, लेकिन जब कोई नीची जाति का व्यक्ति इसमें उनकी बराबरी करता है तो यह गलत हो जाता है। इस तरह का बयान सही नहीं है।
नंदी के बयान पर बसपा सुप्रीमो मायावती और लोजपा नेता राम विलास पासवान ने विरोध जताकर नंदी के खिलाफ अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम के तहत मामला दर्ज करने की मांग की थी। मायावती ने कहा कि नंदी को तुरंत जेल भेजा जाना चाहिये।
नंदी के बयान की भाजपा, जदयू, माकपा और अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पी एल पूनिया ने भी निंदा की।
अपनी सफाई पेश करते हुये नंदी ने कहा कि यदि उनकी बात को गलत समझा गया है तो वह माफी मांग लेंगे। हालांकि बाद में नंदी ने अपने बयान पर माफी न मांगते हुये कहा कि मैं माफी नहीं मागूंगा, क्योंकि मैं हाशिये पर आये लोगों का समर्थन कर रहा था। मैंने अपना पूरा जीवन उनके हितों के लिये काम करने में बिताया है और मैं ऐसा करता रहूंगा।
नंदी ने हालांकि बाद में स्पष्ट किया कि उनका मतलब यह था कि ज्यादातर लोग जिन्हें पकड़ा जाता है, वे ओबीसी, अजा और अजजा समुदायों के होते हैं, क्योंकि उनके पास सवर्ण जातियों की तरह खुद को बचाने के तरीके नहीं होते हैं।
उन्होंने कहा कि उनका कहना था कि ओबीसी एससी और एसटी के लोग यदि भ्रष्टाचार में शामिल होते हैं तो उसे भ्रष्टाचार करार दिया जाता है पर उच्च जाति के लोग बच कर निकल जाते हैं।
..........................................
आशीष नंदी की दलितों संबंधी टिप्पणी पर जमकर हंगामा
जयपुर, एजेंसी
First Published:26-01-13 08:12 PM
जयपुर साहित्य महोत्सव में उस समय जमकर हंगामा हुआ, जब राजनीतिक चिंतक आशीष नंदी ने अनुसूचित जाति, जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग यानी ओबीसी समुदायों के लोगों और भ्रष्टाचार को लेकर विवादित टिप्पणी की।
महोत्सव में पैनल चर्चा के दौरान नंदी ने कहा कि ज्यादातर भ्रष्ट लोग ओबीसी, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समुदाय के होते हैं। नंदी के इस बयान पर दर्शकों ने शोर मचाना शुरू कर दिया।

पैनल में शामिल वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष और दर्शक दीर्घा में बैठे कई लोगों ने इस बयान पर आपत्ति जताई। आशुतोष ने कहा कि यह मेरे द्वारा सुना गया सबसे अनोखा बयान है। ब्राह्मण और सवर्ण जातियां सभी तरह का भ्रष्टाचार करके बच निकली हैं, लेकिन जब कोई नीची जाति का व्यक्ति इसमें उनकी बराबरी करता है तो यह गलत हो जाता है। इस तरह का बयान सही नहीं है।
नंदी के बयान पर बसपा सुप्रीमो मायावती और लोजपा नेता राम विलास पासवान ने विरोध जताकर नंदी के खिलाफ अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम के तहत मामला दर्ज करने की मांग की। मायावती ने कहा कि नंदी को तुरंत जेल भेजा जाना चाहिये।
नंदी के बयान की भाजपा, जदयू, माकपा और अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पी एल पूनिया ने भी निंदा की।
...................................
आशीष नंदी की विवादित टिप्पणी की पुलिस ने शुरू की जांच
जयपुर, एजेंसी
(First Published:26-01-13 08:40 PM Last Updated:26-01-13 10:31 PM)

पुलिस ने आज आशीष नंदी और सुजाय राय के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506 और अनूसूचित जाति, जनजाति अत्याचार की धारा 3 ए के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
जांच कर रहे पुलिस अधिकारी सुमित गुप्ता ने कहा कि मामला दर्ज हुआ है, मामले की जांच की जा रही है। गौरतलब है कि साहित्यकार आशीष नंदी ने जयपुर साहित्योत्सव के एक सत्र में बोलते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के लिए अनुसूचित जाति, जनजाति एक पिछड़े वर्ग के लोग जिम्मेदार है। सत्र में मौजूद पत्रकार आशुतोष ने इसका विरोध किया था।
दौसा सांसद डॉ किरोडी लाल मीणा को नंदी के बयान की जानकारी मिलते ही जयपुर साहित्योत्सव स्थल पर पहुंच कर नंदी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। ऐसा नहीं होने पर उन्होंने धरना देने की चेतावनी दी।
डॉ मीणा ने कहा कि नंदी ने एक वर्ग पर जान-बुझ कर कटाक्ष किया है। सरकार को नंदी के खिलाफ अनुसूचित जाति जनजाति की धाराओं के तहत सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। इस बीच नंदी ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मेरी बात को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। मेरा मकसद किसी को ठेस पहुंचाना नहीं था, अगर किसी को मेरी बातों से दुख पहुंचा है तो मै माफी मांगता हूं।
........................................
पासवान ने की आशीष नंदी की टिप्पणी की आलोचना
पटना, एजेंसी
First Published:26-01-13 07:07 PM  Last Updated:26-01-13 09:13 PM 
लोजपा मुखिया रामविलास पासवान ने जयपुर में चल रहे साहित्य महोत्सव में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर अनुसूचित जाति और जनजातियों के खिलाफ समाजशास्त्री एवं लेखक आशीष नंदी की कथित टिप्पणी की आज कड़ी आलोचना की।
पासवान ने नंदी की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने अनुसूचित जातियों और जनजातियों के बारे में जो बयान दिया है, वह विक्षिप्त मानसिकता का परिचायक है। दलित नेता ने कहा कि नंदी को इस बयान के लिए अनुसूचित जाति जनजाति अत्यचार अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

उल्लेखनीय है कि नंदी ने जयपुर साहित्य महोत्सव में पैनल परिचर्चा के दौरान आज कहा था कि सबसे अधिक भ्रष्ट लोग अन्य पिछड़ी जाति, दलित और आदिवासी समुदाय से आते हैं।
(साभार हिंदुस्तान - नई दिल्ली) 
अमर उजाला से -

'देश में भ्रष्टाचार के लिए पिछड़े और दलित जिम्मेदार'

जयपुर/इंटरनेट डेस्क | Last updated on: January 26, 2013 4:28 PM IST

most of corrupt come from backward classes says ashis nandy
समाजशास्त्री और लेखक आशीष नंदी ने देश में व्याप्त भ्रष्टाचार के लिए सीधे तौर पर पिछड़े वर्ग को जिम्मेदार बताया ह‌ै। उनके इस बयान से जयपुर साहित्य सम्मेलन एक बार फिर विवादों में आ गया है। विवाद को देखते हुए सम्मेलन स्‍थल की सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

सीएसडीएस के निदेशक और मशहूर फिल्मकार प्रीतीश नंदी के भाई आशीष नंदी ने साहित्य सम्मेलन के एक कार्यक्रम में शनिवार को कहा कि भ्रष्टाचार के लिए अन्य पिछड़ा वर्ग के साथ साथ, अनुसूचित जाति और जनजाति जिम्मेदार हैं। उन्होंने इसके लिए पश्चिम बंगाल का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा भ्रष्ट लोग इन्हीं वर्ग से आते हैं।

इस विवादास्पद बयान को लेकर मीणा और जाट जातियों के कुछ संगठन बेहद नाराज नजर हो गए हैं। मीणा महासभा और जाट महासभा ने जयपुर साहित्य सम्मेलन से नंदी को बाहर करने की मांग की है। इतना ही नहीं, मीणा महासभा ने नंदी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का मन बना लिया है।

नंदी के बयान की साहि‌त्य और राजनीति जगत में ‌काफी आलोचना हो रही है। जयपुर साहित्य सम्मेलन के आयोजक संजोय रॉय का कहना है कि भ्रष्टाचार का किसी जाति-सुमदाय से कोई संबंध नहीं होता है। 

दैनिक भास्कर से-

नंदी का बयान, 'भ्रष्‍ट लोग ओबीसी, एससी और एसटी समुदाय से'

dainikbhaskar.com | Jan 27, 2013, 00:23AM IST
 
EmailPrintComment

नई दिल्‍ली/जयपुर. जयपुर में चल रहे लिटरेचर फेस्टिवल में आशीष नंदी के बयान पर बवाल हो गया है। राजनीतिक समालोचक नंदी ने कहा है कि ज्‍यादातर भ्रष्‍ट लोग ओबीसी, एससी और एसटी समुदाय से आते हैं। पिछड़े और दलित समुदाय के लोगों के खिलाफ नंदी के इस विवादास्‍पद बयान पर श्रोताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। दलित महासंघ ने नंदी के बयान का कड़ा विरोध किया है और महासंघ की शिकायत पर नंदी के खिलाफ अशोक नगर थाने में केस दर्ज हो गया है। नंदी के खिलाफ गैर जमानती धाराओं में एससी/एसटी एक्‍ट के तहत केस दर्ज हुआ है, ऐसे में उनकी गिरफ्तारी भी संभव है।

हालांकि ऐसा लग रहा है कि नंदी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। उनका कहना है कि वह अपने बयान पर कायम हैं। यदि उनका बयान गैरकानूनी है तो पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। उन्‍होंने यह भी कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है। आशीष नंदी सीएसडीएस के निदेशक हैं और मशहूर फिल्मकार प्रीतीश नंदी के भाई हैं।
नंदी ने अपने बयान के समर्थन में पश्चिम बंगाल का उदाहरण दिया। नंदी के बयान का मंच पर मौजूद एक और साहित्यकार ने ताली बजाकर स्वागत किया। लेकिन साहित्य जगत से लेकर राजनीतिक वर्ग से प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो चुका है।
राजस्थान पत्रिका से-
दित टिप्पणी,नंदी पर केस दर्ज
Saturday, 26 Jan 2013 9:49:15 hrs IST
Ashish Nandy at jlf
जयपुर। जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में एससी,एसटी और अन्य पिछड़ा वर्ग के खिलाफ कथित विवादित बयान देने वाले समाजशास्त्री एवं लेखक आशीष नंदी के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया है। यह मामला गैर जमानती मामलों में दर्ज किया गया है। 



शनिवार देर शाम अशोक नगर थाने में मामला दर्ज होने के बाद नंदी पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। अगर वह दोषी पाए जाते हैं तो 10 साल तक की सजा हो सकती है। पुलिस ने फेस्टिवल के आयोजक संजय रॉय के खिलाफ भी केस दर्ज किया है। 

उधर नंदी के बयान के विरोध में एससी,एसटी और अन्य पिछड़ा वर्ग से जुड़े लोग फेस्टिवल के आयोजन स्थल डिग्गी पैलेस के बाहर धरने पर बैठ गए हैं। जयपुर में अन्य स्थानों पर भी विरोध प्रदर्शन कर नंदी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई व गिरफ्तारी की मांग की गई। मीणा महासभा के अध्यक्ष रामपाल मीणा ने कहा है कि जब तक पुलिस नंदी को गिरफ्तार नहीं कर लेती तब तक विरोध जारी रहेगा। 

जाट महासभा के अध्यक्ष राजाराम मील ने कहा कि साहित्यकारों को दलितों के खिलाफ अनुचित भाषा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। दलित और ओबीसी देश की जनसंख्या का 80-85 फीसदी हैं। वे सबसे ज्यादा भ्रष्ट नहीं है। नंदी का बयान देश की इतनी बड़ी आबादी को गाली है।
काम नहीं आई सफाई 
विवाद बढ़ता देख फेस्टिवल के आयोजकों ने आनन फानन में नंदी की प्रेस कांफ्रेंस करवाई। इसमें नंदी ने अपने बयान पर सफाई भी दी। सफाई देने के लिए वे अपने साथ मशहूर पत्रकार तरूण तेजपाल को भी लेकर आए। नंदी ने कहा कि उनकी टिप्पणी को गलत अर्थ में लिया गया है। उन्होंने एक लिखी हुई स्क्रिप्ट मीडिया के समक्ष पढ़ी। 

इसमें कहा गया कि भारत में भ्रष्टाचार इक्वलाइजिंग फोर्स है। मेरे कहने का यह मतलब था कि जब गरीब लोग,एससी और एसटी के लोग भ्रष्टाचार करते हैं तो इसको बढ़ा चढ़ाकर बताया जाता है। अगर लोगों ने इसे गलत समझा। मैं माफी मांगता हूं। मेरे कहने का मतलब था कि 
अमीर लोगों के भ्रष्टाचार को हमेशा नजरअंदाज कर दिया जाता है।

मैं इस मामले को यहीं खत्म करता हूं। नंदी की सफाई के बाद तरूण तेजपाल ने कहा कि नंदी कभी दलितों,पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं रहे हैं। उन्होंने हमेशा इस वर्ग के लिए काम किया है। उन्होंने पत्रकारों को भी नसीहत दी कि वे फालतू का विवाद खड़ा न करें। इसके बाद संजय रॉय ने कहा कि दौसा सांसद किरोड़ी लाल मीणा और जाट महासभा के अध्यक्ष राजाराम मील से नंदी और तरूण तेजपाल की बातचीत हो गई है। वे उनकी सफाई से संतुष्ट हैं। 

यह कहा था नंदी ने 
लिटरेचर फेस्टिवल के तीसरे दिन नंदी ने 'रिपब्लिक ऑफ आइडियाज' सेशन में टिप्पणी की थी कि देश को भ्रष्टाचार ने जकड़ रखा है। यह तथ्य है कि ज्यादातर भ्रष्ट लोग एससी,एसटी और ओबीसी वर्ग से हैं।
दैनिक जागरण से ;-

आशीष नंदी के एससी-एसटी संबंधी बयान पर बवाल

जयपुर [ओमप्रकाश तिवारी]। जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल विवादों से अपना पीछा नहीं छुड़ा पा रहा है। दुनिया के 100 शीर्ष बुद्धिजीवियों में से एक माने जानेवाले समाजशास्त्री आशीष नंदी ने शनिवार को सम्मेलन के एक सत्र यह कहकर मुसीबत मोल ले ली कि भारत में दलित और पिछड़े ही सबसे भ्रष्ट हैं। हालांकि बाद में उन्होंने अपने बयान पर सफाई देने की कोशिश की है, लेकिन इसविवादास्पद बयान पर उनके खिलाफ जयपुर के अशोक नगर पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। इसी के साथ राजनीतिक दलों के स्तर पर भी उनका विरोध शुरू हो गया है।
आशीष नंदी आज जयपुर साहित्य सम्मेलन के तीसरे दिन सुबह रिपब्लिक ऑफ आइडियाज अर्थात विचारों का गणतंत्र नामक सत्र में बोल रहे थे। नंदी ने अपने बयान में दलितों व पिछड़ों को सबसे ज्यादा भ्रष्ट तो बताया ही, साथ ही पश्चिम बंगाल का उदाहरण देते हुए यह भी कहा कि वहां भ्रष्टाचार सबसे कम इसलिए है क्योंकि वहां पिछले 100 साल में दलितों व पिछड़ों को सत्ता के नजदीक आने का मौका ही नहीं मिला। नंदी के यह बयान देते ही हंगामा मच गया। सबसे पहले मंच पर उन्हीं के साथ बैठे पत्रकार आशुतोष ने उनके कथन से अपना विरोध दर्ज कराया। उसके बाद तो यह बयान मंच और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल परिसर की सीमाएं लांघ कर राजनीतिक हल्कों में जा पहुंचा। राजस्थान के मीणा एवं जाट जातियों के कुछ नेता तो जेएलएफ परिसर तक आ पहुंचे। अनहोनी की आशंका को देखते हुए सम्मेलन परिसर में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ानी पड़ी।
मामला बिगड़ता देख सम्मेलन के आयोजकों ने शाम होते-होते आशीष नंदी को अपने बयान पर सफाई पेश करने के लिए राजी कर लिया। इसके लिए बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में आकर नंदी ने कहा कि उनके बयान का वह अर्थ नहीं था, जो समझा गया। वह कहना चाहते थे कि अमीर लोगों के पास और अमीर होने के कई तरीके होते हैं, इन तरीकों से किया गया भ्रष्टाचार आसानी से छुप जाता है। जबकि दलित, आदिवासी और पिछड़े वर्ग द्वारा की गई छोटी सी भी गलती बड़ी आसानी से लोगों के सामने आ जाती है। सुबह के सत्र में उनके साथ रहे पत्रकार तरुण तेजपाल ने भी नंदी की बात का समर्थन करते हुए कहा कि साहित्य सम्मेलन हर मुद्दे पर खुली चर्चाओं के लिए होते हैं। इन चर्चाओं को राजनीतिक बहस का रूप नहीं दिया जाना चाहिए। संवाददाता सम्मेलन से पहले ही राजस्थान के मीणा एवं जाट समाज के नेता सम्मेलन के नेताओं से मिलकर अपना विरोध जता चुके थे। इसके बावजूद ये नेता संतुष्ट नहीं हुए। जिसके फलस्वरूप आशीष नंदी के खिलाफ जयपुर के अशोक नगर थाने में एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।
आशीष नंदी ने दिया लिखित स्पष्टीकरण
नई दिल्ली [जागरण न्यूज नेटवर्क]। जयपुर साहित्य उत्सव में भ्रष्टाचार के संदर्भ में अपनी टिप्पणी से उपजे बवाल के बाद समाजशास्त्री एवं लेखक-विचारक आशीष नंदी ने तत्काल माफी मांगने के बाद देर शाम लिखित में भी अपना स्पष्टीकरण जारी किया और माफी भी मांगी। उनका स्पष्टीकरण इस तरह है:
''मैंने जो कहा, इस संदर्भ में नहीं कहा था और न ही मैं ऐसा कहना चाहता था। पूरे सत्र में जो बात उठी वह इस प्रकार थी। मैं तरुण तेजपाल की बात का समर्थन कर रहा था कि भारत में भ्रष्टाचार हर तरफ फैला हुआ है। मेरा मानना है कि एक भ्रष्टाचार-मुक्त समाज एक तरह की तानाशाही जैसा होगा। सत्र में इससे पहले मैंने यह कहा था कि मेरे या रिचर्ड सोराबजी जैसे लोग जब भ्रष्टाचार करते हैं तो बड़ी सफाई से कर जाते हैं, फर्ज करें, मैं उनके बेटे को हार्वर्ड में फैलोशिप दिलवा दूं और वह मेरी बेटी को ऑक्सफोर्ड भिजवा दें। इसे भ्रष्टाचार नहीं माना जाएगा। लोग समझेंगे कि यह उनकी काबिलियत के आधार पर किया गया है, लेकिन जब कोई दलित, आदिवासी या अन्य पिछड़े वर्ग का आदमी भ्रष्टाचार करता है तो वह सबकी नजर में आ जाता है।
हालांकि मेरा मानना है कि इन दोनों भ्रष्टाचारों के बीच कोई अंतर नहीं है और अगर इस भ्रष्टाचार से उन तबकों की उन्नति होती है तो भ्रष्टाचार में बराबरी बनी रहती है। इस बराबरी के बलबूते पर मैं गणतंत्र को लेकर आशावादी हूं। आशा है कि मेरे इस बयान से यह विवाद यहीं खत्म हो जाएगा। अगर इससे गलतफहमी पैदा हुई है तो मैं माफी चाहता हूं। हालांकि ऐसी कोई बात हुई नहीं थी। मैं किसी भी समुदाय की भावना को आहत नहीं करना चाहता था और अगर मेरे शब्दों या गलतफहमी से ऐसा हुआ है तो मैं क्षमाप्रार्थी हूं।''
बयान से भड़की राजनीतिक आग
नई दिल्ली। भ्रष्टाचार के लिए दलितों और पिछड़ों को जिम्मेदार बताने वाले लेखक आशीष नंदी चौतरफा घिर गए। कांग्रेस और भाजपा समेत सभी राजनीतिक दलों ने जहां इस पर आपत्ति जताई वहीं बसपा प्रमुख मायावती और लोजपा अध्यक्ष राम विलास पासवान ने तो उनके खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग कर डाली। रिपब्लिकन पार्टी के अध्यक्ष रामदास आठवले ने नंदी की गिरफ्तारी एवं उन्हें जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल से बाहर करने की मांग की है।
हालांकि, नंदी ने बिगड़ी बात संभालने की कोशिश की, लेकिन नेता संतुष्ट नहीं हुए। बसपा प्रमुख ने तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए राजस्थान सरकार से कहा कि सामाजिक वैमनस्य फैलाने वाले इस व्यक्ति के खिलाफ तत्काल एससी-एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने यह आशंका भी जताई कि पिछड़ों को बदनाम करने के लिए जानबूझ कर इस तरह का बयान दिया गया।
भाजपा प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी ने भी नंदी पर हमला किया। उन्होंने कहा कि नंदी एक जाने-माने आलोचक और समाजशास्त्री हैं, लेकिन भ्रष्टाचार को किसी जाति से जोड़ा जाना सर्वथा गलत है। बात चाहे किसी भी परिप्रेक्ष्य में कही गई हो, यह बयान हमारे समाज में स्वीकार्य नहीं है। भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भ्रष्टाचार एक रोग है, जिसके खिलाफ सभी को एकजुट खड़ा होना चाहिए। नंदी का यह बयान आपत्तिजनक है और उन्हें इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी ने भी नंदी बयान को देश के लिए नुकसानदेह बताया। उन्होंने कहा कि किसी जाति या समुदाय के बारे में इस तरह की टिप्पणी नहीं होनी चाहिए। इससे नंदी की मानसिक स्थिति पर सवालिया निशान लगते हैं।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एकात्म मानवतावाद

कुछ विद्वान मित्रों का मानना है कि भाजपा की तरफ आम लोगों का आकर्षण बढ़ रहा है और वह इसलिए कि उन लोगों के मन में उनमें  हिंदू होने का म...