मंगलवार, 25 जनवरी 2011

अपना 62वां गणतंत्र दिवस


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो अब बटबृक्ष बन रहा है।

आपको याद तो होगा ! अखलाक का मारा जाना ! तब के शहंशाह का डर ? इन आतताइयों के लिए ! हिम्मत और साहस का अंकुरण था। जो अब बटबृक्ष बन रहा है।...