मंगलवार, 21 दिसंबर 2010

मुसलमान मुलायम और आजम के जरखरीद गुलाम नहीं हैं


(जनतंत्र  से  साभार)

आजम खान की समाजवादी पार्टी में बहुप्रतीक्षित वापसी बहुत ही भावुक अंदाज में हुई। इतनी भावुकता यश चोपड़ा और करन जौहर की फिल्मों में ही देखने को मिलती है। भावुकता में ही दोनों के आंसू छलक पड़े और मुलायम सिंह यादव ने आजम खान को ’किस’ भी किया। फिल्मों की तरह बिछड़ने-मिलने की इस कहानी का आजम-मुलायम की नजर में हैप्पी एंड तो हो सकता है। लेकिन इस बात को मुसलमान तय करेंगे कि हैप्पी एंड हुआ है या पिक्चर अभी बाकी है।
आजम खान की वापसी को कुछ इस तरह लिया जा रहा है कि जैसे अब उत्तर प्रदेश का सारा मुसलमान सपा के साथ हो जाएगा। समाजवादी पार्टी के नेता यह न भूलें कि आजम खान मुसलमानों के ठेकेदार नहीं हैं। न ही मुसलमान आजम खान सरीखे नेताओं के जरखरीद गुलाम हैं। आजम खान ने सत्ता में रहते हुए मुसलमानों पर ऐसा कुछ एहसान नहीं किया है, जिसको चुकाने के लिए मुसलमान मरे जा रहे हों।
आजम खान तो सत्ता में रहते मलियाना कांड की जांच आयोग की रिपोर्ट तक सार्वजनिक नहीं करा पाए थे। आजम खान ने मलियाना कांड को हमेशा ही अपनी राजनीति के लिए इस्तेमाल किया आज भी करते हैं। सच तो यह है कि आजम खान ने नहीं मुसलमानों ने समाजवादी पार्टी पर एहसान किया। उस एहसान के बदले में मुसलमानों को कुछ नहीं मिला।
मुलायम सिंह यादव ने सत्ता की खातिर या यूं कहें कि अपने ’परिवार’ की खातिर इतनी कलाबाजियां खाईं हैं कि उनकी विश्वसनीयता पर सवालिया निशान लग गया है। समाजवादी पार्टी एक तरह से मुलायम सिंह यादव के परिवार की पार्टी है। जब उनके परिवार के लगभग सभी सदस्य अपना ’कॅरियर’ राजनीति में ही बनाएंगे तो यही कहा जाएगा कि सपा मुलायम परिवार के लिए ’खाने-कमाने’ का जरिया मात्र है। हद तब हो गयी, जब फिरोजाबाद उपचुनाव में मुलायम ने अपनी बहु डिम्पल को उतार दिया। उनकी इस हरकत से जनता में संदेश गया था कि मुलायम सिंह यादव ’परिवार मोह’ मे पार्टी का बेड़ा गर्क करने पर तुल गए हैं। हम शुरू से ही कहते आएं हैं कि मुलायम सिंह यादव न तो कभी मुसलमानों के हितैषी थे और न कभी हो सकते हैं।
बाबरी मस्जिद-राममंदिर विवाद की देन समाजवादी पार्टी भाजपा की कार्बन कॉपी है। उत्तर प्रदेश में सपा और भाजपा में यह गठजोड़ था कि भाजपा हिन्दुओं की राजनीति करेगी तो सपा मुसलमानों की। दिन में दोनों राजनैतिक मंच से एक-दूसरे को कोसते जरूर थे, लेकिन शाम को मुलायम और कल्याण सिंह अमीनाबाद में लस्सी साथ ही बैठकर पीते थे। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि अक्टूबर 1990 में उन्होंने कानून का सहारा लेकर बाबरी मस्जिद को शहीद होने से बचा लिया था। मुसलमानों ने मुलायम के उस एहसान का बदला उन्हें भरपूर समर्थन देकर अदा किया था। लेकिन यह शर्मनाक रहा कि मुसलमानों को मुलायम सिंह यादव ने केवल एक वोट बैंक समझकर उनकी अनदेखी की। वोट के बदले आजम खान सरीखे एक दो मुसलमानों को मंत्री बनाकर यह समझ लिया कि मुसलमानों को सत्ता में भागीदारी मिल गयी है। सरकारी नौकरियों में केवल अपनी जाति के लोगों को तरजीह दी। मुलायम सिंह यादव की सरकार एक तरह से यादवों की सरकार रही। मुसलमान केवल वोट देकर सरकार बनवाने तक ही सीमित रहे।
मुलायम सिहं यादव ने मुसलमानों को समाजवादी पार्टी का ’अंध भक्त’ समझ कर बहुत बड़ी गलती की थी। इसलिए उन्होंने वे सब काम किए जो, मुसलमानों को पसन्द नहीं थे। सपा से उस साक्षी महाराज को राज्यसभा में भेजा, जिसने गर्व से कहा था कि बाबरी मस्जिद पर सबसे पहला फावड़ा उसने चलाया था। मुसलमानों ने इसे बर्दाश्त किया। फिर कल्याण सिंह के बेटे राजबीर सिंह को मंत्री बनाया। मुसलमानों ने इसे भी सहा। सच यह भी है कि मुलायम सिंह यादव ने कल्याण सिंह को लोध वोटों के लालच में अपने साथ लिया था। लेकिन लोध वोट तो मिला नहीं, मुस्लिम भी छिटक गए। मुसलमान इस बात को नहीं पचा पाए कि जिस कल्याण सिंह को मुसलमान अपना दुश्मन मानते रहे हैं, उस आदमी को कैसे समाजवादी पार्टी में बर्दाश्त किया जा सकता है। हालांकि मुलायम सिंह ने कल्याण सिंह को सपा से बाहर करके और मुसलमानों से अपनी गलती की माफी मांग ली लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। मुसलमानों के सामने मुलायम सिंह यादव का चेहरा बेनकाब हो गया था।
अब आजम खान की बात करते हैं। कल्याण सिंह की वापसी पर ’नाराजगी’ जताने वाले आजम खान तब सपा में ही थे, जब साक्षी महाराज को राज्यसभा में भेजा गया था। आजम तब क्यों नाराज नहीं हुए थे। कल्याण सिंह का पुत्र राजबीर सिंह सपा सरकार में मंत्री बना, तब भी आजम सपा में ही थे। तब भी आजम क्यों चुप रहे। हकीकत यह है कि आजम खान को कल्याण सिंह को सपा में लिए जाने पर भी ऐतराज नहीं था। उनकी नाराजगी तो रामपुर से जया प्रदा को टिकट देने पर थी। आजम नहीं चाहते थे कि रामपुर सीट से जया प्रदा को टिकट दिया जाए। लेकिन तब मुलायम सिंह यादव इस भ्रम थे कि मुस्लिम वोटों की पूर्ति कल्याण सिंह की वजह से लोधों वोटों से पूरी हो जाएगी इसलिए आजम की नहीं सुनी गई। यकीन करिए रामपुर सीट मामले में मुलायम सिंह यादव आजम खान की मान लेते तो आजम को कल्याण सिंह भी कबूल थे। कल्याण सिंह को तो उन्होंने केवल ढाल बनाया था।
आजम खान की वापसी से सपा दोबारा में जान पड़ जाएगी यह केवल खामख्याली के अलावा कुछ नहीं है। बिहार ने संदेश दे दिया है कि जाति और धर्म की राजनीति करने वाले नेता अपने दिन गिनने शुरू कर दें। मंडल और कमंडल बीते जमाने की चीज हो चुकी हैं। आने वाले वक्त में विकास ही मुददा होगा। मुसलमान भी अब बाबरी मस्जिद का शोकगीत गाने के बजाय अपना और अपनी आने वाली नस्लों का उज्जवल भविष्य चाहते हैं। इस बात को आजम खान भी समझ लें और मुलायम सिंह भी, अब किसी के पार्टी में आने या जाने से मुसलमान अपना एजेंडा तय नहीं करेंगे। जो राजनैतिक दल आज तक भाजपा का डर दिखाकर मुसलमानों का वोट लेते आए हैं, वे सभी इस बात को भी समझ लें कि मुसलमानों के वोट चाहिए तो मुसलमानों को भी कुछ देना पड़ेगा।

सलीम अख्तर सिद्दीकी

1 टिप्पणी:

एकात्म मानवतावाद

कुछ विद्वान मित्रों का मानना है कि भाजपा की तरफ आम लोगों का आकर्षण बढ़ रहा है और वह इसलिए कि उन लोगों के मन में उनमें  हिंदू होने का म...