शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2010

आईएएस व आईपीएस के परिजन भी मैदान में उतरे |





(ये नए समाज के अलमबरदार तैयार हो गए है गाँव संभालने को इन्होने पूरे सूबे को जो शक्ल दी है वही योजना लेकर आये है गाँव की हसीं ख़ुशी को अपनी मनहूस उदासी से सराबोर कर भ्रष्टाचार बिखेरने इनसे बचाना चहिये . आईये इनके खिलाफ एक मोर्चा हम भी बनायें .

डॉ.लाल रत्नाकर )

खबर दैनिक जागरण से साभार - 


मेजा, इलाहाबाद : सरकार ने जिस प्रकार पिछले दस वर्षो में पंचायतों को अधिकारों से लैस किया है इससे इसका आकर्षण युवाओं में ही नहीं अधिकारियों के परिजन में भी बढ़ा है। यही कारण इस बार के पंचायत चुनाव के समर में आईएएस एवं आईपीएस के परिवारीजन भी प्रत्याशी के रूप में किस्मत आजमा रहे हैं। ऐसा कुछ उरुवां विकास खंड में देखने को मिल रहा है। यहां पर रसूख वाले कई उच्चाधिकारियों के पिता, भाई एवं भतीजे प्रधानी के लिए मैदान में हैं।
विकास खण्ड उरुवां जिसे चौरासी के नाम से जाना जाता है, में पंचायत चुनाव का रंग कुछ ज्यादा ही चटक है। कारण यह है कि यह चौरासी का इलाका बुद्धिजीवियों का इलाका माना जाता है। यहां की धरती ने दो दर्जन से भी ज्यादा आईएएस एवं आईपीएस दिये है। इस बार पंचायत के चुनाव में उनकी भी प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। कुवंरपंट्टी गांव के दुर्गा चरन मिश्रा आईपीएस सेवा में हैं। इनके पिता त्रिभुवन नाथ मिश्रा गांव की प्रधानी के लिए खड़े हुए हैं। मजे की बात यह है कि इनके सामने जो प्रत्याशी जीत कुमारी मिश्रा हैं, वह क्षेत्रीय विधायक आनन्द कुमार पाण्डेय (कलेक्टर पाण्डेय) की सगी बहन हैं। वर्तमान में वह गांव की प्रधान भी हैं। ऐसे में यहां की प्रधानी की जंग काफी दिलचस्प हो गई है। सोरांव गांव के पंडित का पुरा निवासी आद्या प्रसाद पाण्डेय पिछले माह डीजीपी पंजाब के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। उनके छोटे भाई कौशलेश प्रसाद पाण्डेय गांव के प्रधानी के प्रत्याशी हैं। इसी प्रकार से अटखरियां गांव निवासी पूर्व डीआईजी राजेंद्र सिंह के भाई शीतला प्रसाद सिंह गांव में प्रधानी के लिए चुनावी मैदान में हैं। यही नही भिंगारी गांव के रमेंद्र नाथ मिश्रा पूर्व अपर आयुक्त रहे हैं लेकिन वे भी पंचायत चुनाव में जिला पंचायत सदस्य के प्रत्याशी हैं। ये तो चंद उदाहरण है ऐसे और भी उच्चाधिकारी है जिनके परिवार के लोग पंचायत के चुनाव में जोर आजमाइश कर रहे हैं और उनकी प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। यही नहीं इस इलाके में क्षेत्रीय जन प्रतिनिधियों के चहेते भी चुनावी मैदान में है जिसको लेकर राजनीति की गुणा गणित कुछ ज्यादा ही हो गई है। कुल मिलाकर मेजा तहसील के तीनों ब्लाकों में मेजा, माण्डा एवं उरुवां के राजनीतिक दंगल को देखा जाए तो उरुवां ब्लाक में सबसे ज्यादा दिग्गजों के बीच घमासान है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एकात्म मानवतावाद

कुछ विद्वान मित्रों का मानना है कि भाजपा की तरफ आम लोगों का आकर्षण बढ़ रहा है और वह इसलिए कि उन लोगों के मन में उनमें  हिंदू होने का म...